98. आंखों में नमी, हंसी लबों पर!

बहुत सी बार ऐसा होता है कि कोई कविता शुरू करते हैं, कुछ लाइन लिखकर रुक जाते हैं। फिर आगे नहीं बढ़ पाते, लेकिन वो लाइनें भी दिमाग से नहीं मिट पातीं।

अभी दिवाली आकर गई है, दीपावली, दिवाली कहने से ‘दिवाला’ याद आता है, हालांकि वो भी बड़े रईसों की चीज़ है, सामान्य आदमी का तो अघोषित ही दिवाला होता है।

हाँ तो कविता की ये पंक्तियां, कभी दीपावली के आसपास ही लिखी थीं। बहुत साल पहले, कब, ये याद नहीं है। पंक्तियां इस तरह हैं-

हम भी अंबर तक, कंदील कुछ उड़ाते

पर अपने जीवन में रंग कब घुले।

हमको तो आकर हर भोर किरण

दिन का संधान दे गई,

अनभीगे रहे और बारिश

एक तापमान दे गई।

आकाशी सतहों पर लोट-लोट जाते,

पर अपने सपनों को पंख कब मिले॥

आज, अचानक ये अधूरा गीत याद आया, तो सोचा कि इसको भी यहाँ, अपनी डिजिटल स्मृतियों में स्थापित कर दूं।

अब अपना ये पुराना, अधूरा गीत साझा करने के बाद, जगजीत सिंह जी की गाई, कैफी साहब की लिखी एक लोकप्रिय गज़ल के एक दो शेर याद आ रहे हैं, वो भी शेयर कर लेता हूँ-

तुम इतना जो मुस्कुरा रहे हो,

क्या गम है जिसको छिपा रहे हो।

आंखों में नमी, हंसी लबों पर,

क्या हाल है, क्या दिखा रहे हो।

बन जाएंगे ज़हर पीते-पीते

ये अश्क़ जो पीते जा रहे हो।

शायद ज़िंदगी में ऐसा तो चलता ही रहता है, कोई कैफी साहब जैसा शायर उसको इतनी खूबसूरती से बयां कर देता है।

आज के लिए इतना ही,

नमस्कार।

***************

Leave a Reply

%d bloggers like this: