Categories
Uncategorized

131. जवां रहो!

आज फिर से प्रस्तुत है एक पुरानी ब्लॉग पोस्ट-

अब जब पुरानी कविताएं शेयर करने का सिलसिला चल निकला है तो लीजिए, मेरी एक और पुरानी कविता प्रस्तुत है-

सपनों के झूले में
झूलने का नाम है- बचपन,
तब तक-जब तक कि
इन सपनों की पैमाइश
जमीन के टुकड़ों,
इमारत की लागत
और बैंक खाते की सेहत से न आंकी जाए।

जवान होने का मतलब है
दोस्तों के बीच होना
ठहाकों की तपिश से
माहौल को गरमाना,
और भविष्य के प्रति
अक्सर लापरवाह होना।

बूढ़ा होने का मतलब है-
अकेले होना,
जब तक कोई, दोस्तों की
चहकती-चिलकती धूप में है,
तब तक वह बूढ़ा कैसे हो सकता है।

                                           (श्रीकृष्ण शर्मा)  

नमस्कार।
================

Categories
Uncategorized

The Book I love the most

Today I am expressing myself inspired by weekly prompt on #Indispire and it gives me a chance to remember a few of the books I loved to read. Though it is a fact that since long, I am not doing much of reading but some great books that I had read long back, I keep some parts or characters from them every now and then.

vector illustration of Happy Dussehra festival background forIndia holiday

It is true that as per the weekly prompt I am required to mention one book only, that I want to read again and again, but to be honest, books keep educating us in many ways, they make us rich from inside, at heart and different books give their indelible impressions on the reader at different times.

So I would start with mentioning about some books in short and then in the end would announce the book I put under this heading, like winners are announced! Though there are no winners or losers in books, they all make us winners.

To start with I would like to mention the books of Munshi Prem Chand Ji- Gaban, Godan and so many story books, which contain stories like- Hamid, Bade ghar ki beti, bade bhai sahib, Namak ka Daroga and what not! Munshi Prem Chand Ji have perhaps made the single largest contribution to Hindi Literature, though there are many others including- Rahul Sanskritaayan Ji, Jainendra Kumar Ji etc.

I was very much impressed by the works of modern Hindi writers- Nirmal Verma Ji, Mohan Rakesh Ji, Kamleshwar Ji and many more.

Agyey Ji (Sachidanand Hiranand Vatsyayan- the full name) have made great contribution in the fields of –poetry, stories and novels. His novel- ‘Shekhar ek Jeevni’ is great book.

To mention some great works in Bengali- Gurudev Ravindra Nath Tagore Ji had made a great contribution. He was the only Indian in the field of literature I think who got the noble prize. I remember one of his short stories, in English- ‘The home coming’, a story about a teenager boy, I wept every time the climax of that story came.

Sharat Chandra Ji was a great Bengali writer, Tara Shanker Bandhyopadhyaay another great Bengali writer. I was very much impressed by his novel- ‘Gan Devta’, I read it long back but some of its characters I still remember – the hero ‘Debu Mukherjee’ , Lohar Bahu, Chhiru paal etc. and above all two poor boys- Fatinga and Gobra. Whenever I see a very young serving tea etc. in a restaurant or road side tea-stall, I remember these characters.

The list would go on and on, there are great writers in all Indian languages, I just mentioned a few that I had read and instantly came to my memory.
I also remember Maxim Gorkey’s ‘Mother’, where the main character, the mother tells people to make sacrifices, saying that- ‘Nothing can be worse than the life we are living’. This was with reference to the living conditions in Russia at that time.

So there are many books that have made great impact on my life and on lives of many people. But there is something beyond comparison! Where the canvas is so big, message is so pure and pious that these are above all we can say.

Two such epic books come to my mind as such, one is Bhagvad Gita, I can not claim that I have read it in full, though I wish that sometime I should do that, but I think there is nobody around who has not heard many of the teaching, meanings of shlokas from Gita, people keep quoting them every now and then, without even knowing that these are from Gita! Yes it is a Godly book, but I am not mentioning as my best read, as I have not formally read it.

Indian God Hanuman flying with mountain. Vector illustration

Now I would just like to declare that ‘Sri Ramcharitmaanas’ by Goswami Tulsi das Ji is the book, we call ‘granth’ in Hindi which I feel has changed the life of not only me but thousands of people. There are other books also written on the story of Lord Rama, including the good old ‘Ramayan’ by Rishi Balmiki Ji, but I consider in RamcharitMaanas, the way Tulsi Das Ji has presented the story, with no negative parts, like ‘Sita Banvaas’ (sendin Sita Ji to exile) It is a great work. Written with utmost faith in Lord Rama, it inspires everybody and the poetical presentation in easy to read, rhydmic Awadhi language, it is a masterpiece.

People often use some lines from the text to spread negative things, like – ‘Dhol,Ganwaar, Shudra, pashu, Naari- ye sab taadan ke adhikaari’ (The drum, Village folk, lower caste person, animals and ladies- they all deserve to get thrashed). Now this sentence is spoken by the samudra (sea) when Lord Rama asked him to give way. It is one of the ideas which is express but it is not said by Lord Rama.

In RamCharitMaanas whatever Lord Rama said or did is ideal. Other persons, even his brother Laxman are not ideal. Laxman can be considered an ideal younger brother, like Bharat. He abuses his mother also for sending Lord Rama to exile. He says for him Lord Rama only is the Teacher (Guru), Father and mother, everything for him and he can’t live away from him.

As much as one reads the great epic, he becomes more and more impressed by it. When I listen to the acts and devotion of Hanuman Ji in Sundar Kaand, I normally have tears rolling from my eyes.

There are lovely verses regarding various seasons and their comparison with people of different kinds. There is a very good psychological test Lord Rama takes of his team before he attacks Lanka, when he asks about the ‘black spot’ in the moon and different people express their own frustrations in the name of moon, also abuse moon without reason but Hanuman Ji says that ‘Lord, moon is your beloved disciple and there is your image visible in his heart’. So a truly devoted person considers others also like himself. He does not have to envy or hate anybody.

I could go on discussing the great impact this Epic makes on people so I would like to say that ‘Sri Ram Charit Maanas’ by Goswami Tulsi Das Ji has touched my soul the most and I love to read and listen to it, again and again.

That’s all for this submission.

#BestFriendBook, #Indispire
********

Categories
Uncategorized

WOW: Doodle Something & Write !

In life we all have so many dreams, we sometimes make resolutions, but we always keep thinking of achieving great things. Human mind is so complex and so unstable; we have several ideas in a few seconds. Sometimes we get very good ideas in mind but in a few seconds they get lost! That is why it is all the more important for poets and creative writers to Doodle the very moment a valuable ideas comes to their mind otherwise it might get lost and they may keep tracing it!

Yes human beings have so many desires which keep teasing them every now and then. I read somewhere that we need to convert our meaningful desires into strong resolutions and then keep chasing them. We thus are required to make well meaning goals, which might in some cases appear non practical also. Everything depends on how much committed we are for achieving these goals and how seriously we are pursuing them!

In being serious about our goals, one thing that helps a lot is to doodle them on a piece of paper or may be on a resolution board, as some people or organizations keep, so that we never lose sight of that goal. It helps in keeping focus on our goals or dreams.

. A lot of people write down resolutions on paper and paste it at a place where they can see it every day, multiple times. What about you?
There are so many fields we can have resolutions, about our career, creative endeavors or any field of activity, like players may pledge recognition at national or international level.

As a blogger also we can have our goals and aspirations. Like I had been writing my posts on poems, films, songs etc., I started with my life events and then chose this creative field. A few months back I was in London for a month and wrote travel blogs which I felt were liked by many people, then I thought of writing travel blogs also on regular intervals and in future if I get chance I may keep travelling and write travel blogs.

Earlier I had traveled several nice places in India but got the first chance of foreign travel 4 years back, when I was in Dubai and other cities of United Arab Emirates and also Tanzania. Then again I visited England for a month, this year only.

This increased my thirst for travel to nice and distant places, including several foreign destinations which are quite interesting and many people dream of being there.

With such thoughts in mind I doodled just some places on a piece of paper and would keep adding new destinations here, some that I have already traveled
ed are on left side and I aim to bring those on the right side to come on left. And yes in this process I am not going to ignore the beautiful locations in India also. I would try to visit alternatively- one or two locations in India and then one or two in a foreign countries.

I have full faith that I would be successful in covering as many places as possible and share the experiences with my friends through my blogs and earn good name and fame through this.

This post is a part of Write Over the Weekend, an initiative for Indian Bloggers by #BlogAdda. # Doodle something on paper. Write about it
That’s all for this post.

Thanks for reading it.

Categories
Uncategorized

130. बचपन

आज फिर से प्रस्तुत है एक पुरानी ब्लॉग पोस्ट-

मेरी कुछ पुरानी कविताओं को शेयर करने के क्रम में, प्रस्तुत है आज की कविता-

बचपन

बचपन के बारे में,
आपके मन में भी कुछ सपनीले खयालात होंगे,
है भी ठीक, अपने आदर्श रूप में- बचपन
एक सुनहरा सपना है,
जो बीत जाने के बाद, बार-बार याद आता है।

कोशिश रहती है हमारी, कि हमारे बच्चे-
हक़ीकत को जानें अवश्य,
पर उसके कड़ुए दंश से घायल न हों।

वे ये तो जानें कि जमीन पथरीली है,
पर उससे उनके नाज़ुक पैर न छिलें,
कोशिश तो यहाँ तक होती है कि उनके पांव
जहाँ तक संभव हो-
पथरीली जमीन को छुएं भी नहीं।
खिलौनों, बादलों, खुले आसमान
और परीलोक को ही वे, अपनी दुनिया मानते रहें।

सचमुच कितने भाग्यशाली हैं ये बच्चे-
यह खयाल तब आता है, जब-
कोई दुधमुहा बच्चा, चाय की दुकान में
कप-प्लेट साफ करता है।
दुकान में चाय-नाश्ता बांटते समय
जब कुछ टूट जाता है उससे, तब
ग्राहक या दुकानदार, पूरी ताकत से
उसके गाल पर, अपनी घृणा के हस्ताक्षर करता है।

सपनों की दुनिया से अनजान ये बच्चे,
जब कहीं काम या भीख मांगते दिखते हैं,
तब आता है खयाल मन में-
कि ये बच्चे, देश का भविष्य हैं!
अपनी पूरी ताकत से कोई छोटा बच्चा
जब रिक्शा के पैडल मारता है,
तब कितनी करुणा से देखते हैं उसको आप!

हम बंटे रहें-
जातियों, संप्रदायों, देशों और प्रदेशों में,
पर क्या कोई ऐसी सूरत नहीं कि
बच्चों को हम, बच्चों की तरह देखें।

कोशिश करें कि ये नौनिहाल-
स्वप्न देखने की अवधि, तालीम की उम्र
ठीक से गुज़ारें
और उसके बाद, ज़िंदगी की लड़ाई में
अपने बलबूते पर, प्रतिभा के दम पर
शामिल हों।

क्या हम सब रच सकते हैं
इस निहायत ज़रूरी सपने को-
अपने परिवेश में!

(श्रीकृष्ण शर्मा)
नमस्कार।
***************

Categories
Uncategorized

129. मन के सुर राग में बंधें!

आज फिर से प्रस्तुत है एक पुरानी ब्लॉग पोस्ट-

पुरानी कविताएं, जिनको मैंने उस समय फाइनल नहीं माना यानी ‘पास्ट इंपर्फेक्ट’ कविताओं में से,
एक कविता आज प्रस्तुत है-

मुझमें तुम गीत बन रहो
मुझमें तुम गीत बन रहो,
मन के सुर राग में बंधें।

वासंती सारे सपने
पर यथार्थ तेज धूप है,
मन की ऊंची उड़ान है
नियति किंतु अति कुरूप है,
साथ-साथ तुम अगर चलो,
घुंघरू से पांव में बंधें।

मरुथल-मरुथल भटक रही
प्यासों की तृप्ति कामना,
नियमों के जाल में बंधी
मन की उन्मुक्त भावना,
स्वाति बूंद सदृश तुम बनो
चातक मन पाश में बंधे।

जीवन के ओर-छोर तक
सजी हुई सांप-सीढ़ियां,
डगमग हैं अपने तो पांव
सहज चलीं नई पीढ़ियां।

पीढ़ी की सीढ़ी उतरें,
नूतन अनुराग में बंधें।
यौवन उद्दाम ले चलें,
मन का बूढ़ापन त्यागें,
गीतों का संबल लेकर
एक नए युग में जागें।

तुम यदि संजीवनी बनो
गीत नव-सुहाग में बंधें।

                  (श्रीकृष्ण शर्मा) 

नमस्कार।
————–

Categories
Uncategorized

जब हम दोनो ज़ुदा हुए

आज फिर से अंग्रेजी के प्रसिद्ध कवि लॉर्ड बॉयरन की एक और कविता का भावानुवाद और उसके बाद मूल कविता प्रस्तुत कर रहा हूँ। पहले प्रस्तुत है मेरे द्वारा किया गया कविता का भावानुवाद-

जब हम दोनो ज़ुदा हुए

हम दोनो जब ज़ुदा हुए
खामोशी और आंसुओं के बीच,
टूटे हुए दिल के साथ,
बरसों तक दूर रहने के लिए,
तुम्हारे गाल पीले और ठंडे हो गए थे,
तुम्हारा चुंबन भी बहुत ठंडा हो गया था,
बेशक वह घड़ी जाहिर कर रही थी
इसके लिए अफसोस।

सुबह की ओस
मेरी भौंह पर जम गई-
मुझे लगा जैसे उस भवितव्य की चेतावनी दे रही हो
जो मुझे अब महसूस हो रहा है।
तुम्हारी कसमें सभी टूट चुकी हैं,
और प्रकाश की तरह तुम्हारी ख्याति है,
मैं सुनता हूँ लोगों को तुम्हारा नाम पुकारते,
और उसकी शर्म में डूब जाता हूँ।

वे मेरे सामने तुम्हारा नाम लेते हैं,
जिसकी गूंज मुझे झकझोर जाती है,
मुझे कंपकंपी सी आ जाती है-
तुम इतनी प्यारी क्यों थीं?
वे नहीं जानते हमारे संबंध के बारे में,
तुमको इतनी अच्छी तरह कौन जानता था-
मैं बहुत लंबे समय तक तुम्हारे लिए पछताता रहूंगा,
इतनी गहराई से कि मैं कह नहीं सकता।

हम गुप्त रूप से मिले-
और खामोशी में हम दुखी होते हैं,
कि तुम्हारा दिल भूल जाए,
तुम्हारी आत्मा धोखा न दे दे,
अगर मैं तुम्हें फिर से मिलूं
बहुत बरसों। के बाद,
तो किस तरह मैं तुम्हारा स्वागत करूंगा?-
खामोशी और आंसुओं के साथ।

– लॉर्ड बॉयरन

और अब मूल अंग्रेजी कविता-

When We Two Parted

When we two parted
In silence and tears,
Half broken-hearted,
To sever for years,
Pale grew thy cheek and cold,
Colder thy kiss;
Truly that hour foretold
Sorrow to this.

The dew of the morning
Sank chill on my brow—
It felt like the warning
Of what I feel now.
Thy vows are all broken,
And light is thy fame:
I hear thy name spoken,
And share in its shame.

They name thee before me,
A knell to mine ear;
A shudder comes o’er me—
Why wert thou so dear?
They know not I knew thee,
Who knew thee too well:—
Long, long shall I rue thee
Too deeply to tell.

In secret we met—
In silence I grieve
That thy heart could forget,
Thy spirit deceive.
If I should meet thee
After long years,
How should I greet thee?—
With silence and tears.

                                                         - Lord Byron

नमस्कार।
************

Categories
Uncategorized

128. पेड़!

आज फिर से प्रस्तुत है एक पुरानी ब्लॉग पोस्ट-

किसी ज़माने में कविताएं लिखने का बहुत चाव था। उस समय जो कविताएं किसी हद तक ‘परफेक्ट’ लगती थीं उनको मित्रों के बीच, गोष्ठियों में पढ़ देता था। बहुत सी पांडुलिपियां ऐसी होती थीं जिनको लेकर तसल्ली नहीं होती थी।

ऐसी ही कुछ कागज़ पर सुरक्षित कविताएं, जिनको मैंने उस समय फाइनल नहीं माना और बाद में उनको फाइनल रूप देने का समय नहीं मिला, आज की तारीख में सोचता हूँ कि उनको ‘जैसी हैं, जहाँ हैं, वैसी शेयर कर लेता हूँ।

एक कविता आज प्रस्तुत है-

पेड़

पेड़ हमारी आस्थाओं का प्रतिफलन है,
पेड़ बनने के लिए ज़रूरी है
कि पहले हम ऐसा बीज हों-
जिसे धरती स्वीकार करे,
फिर धरती में रचे-बसे
रसों-स्वादों, मूल रसायनों से भी
हमारा तालमेल हो,
तभी हम धरती का सीना चीरकर
अपना नाज़ुक सिर, शान से उठा सकेंगे।

फिर यहाँ की आब-ओ-हवा, गर्द-ओ-गुबार
धूप और बरसात, जब सहन करेंगे
और दूसरों की इनसे रक्षा करेंगे,
तभी कहला सकेंगे- पेड़,
यह सब यदि संभव नहीं-
तो फिर शान से इंसान बने रहो,
जी भरकर नफरत करो दूसरों से,
और करो ऐसे काम, कि वे भी
आपसे नफरत करें।

कुदरत, सभ्यता, शिष्टता, नागरिकता के
जितने भी मापदंड हैं, नियम हैं
उन्हें शान से तोड़ो,
क्योंकि इंसान होने के लिए
सिर्फ इंसान जैसा दिखना ज़रूरी है।

उसके बाद तो इंसान सबसे ऊपर है,
अपनी पहचान रोज़ तोड़ता है-
फिर भी इंसान ही कहलाता है।

क्या ही अच्छा होता अगर
इंसान का भी, धरती से
ऐसा ही रिश्ता होता-
जैसा पेड़ का होता है।

तब यह दुनिया, बाहर से भी हरी-भरी होती
और भीतर से भी!

नमस्कार।
————–

Categories
Uncategorized

तेरी याद दिल से भुलाने चला हूँ!

आज अपने प्रिय गायक मुकेश जी के गाये एक गीत का पहले अंग्रेजी रूपांतर प्रस्तुत करूंगा और बाद में मूल गीत प्रस्तुत करूंगा। यह गीत शैलेंद्र जी ने लिखा था और इसका संगीत दिया था – शंकर-जयकिशन कि विख्यात जोड़ी ने, फिल्म है- 1962 में रिलीज़ हुई- हरियाली और रास्ता। फिल्म के नायक थे- मनोज कुमार जी और नायिका थीं माला सिन्हा जी।

पहले प्रस्तुत है, इस गीत का अंग्रेजी रूपांतर, जो मैंने करने का प्रयास किया है-

I am now going to erase your memories from my heart,
It’s like I am going to shatter my very existence!

O clouds, you have to be with me,
Since I am going to shed a lot of tears.

At that very place, where I dreamt a lot,
There only I am going to put my ashes before the winds.

O sufferings of love, come and burn my chest-
my clothing,
That way I am going to extinguish-
the fire burning in my heart.

और अब प्रस्तुत है ये खुबसूरत गीत, अपने मूल रूप में-

तेरी याद दिल से भुलाने चला हूँ
कि ख़ुद अपनी हस्ती मिटाने चला हूँ
तेरी याद दिल से भुलाने चला हूँ।

घटाओ तुम्हें साथ देना पड़ेगा
मैं फिर आज आँसू बहाने चला हूँ।
तेरी याद दिल से …

कभी जिस जगह ख़्वाब देखे थे मैंने
वहीं ख़ाक अपनी उड़ाने चला हूँ।
तेरी याद दिल से …

ग़म-ए-इश्क़ ले फूँक दे मेरा दामन
मैं अपनी लगी यूँ बुझाने चला हूँ।
तेरी याद दिल से …

आज के लिए इतना ही
नमस्कार।


Categories
Uncategorized

फ्लोरेंस और पीसा के बीच मार्ग पर लिखे गए कुछ छंद

आज फिर से अंग्रेजी के प्रसिद्ध कवि लॉर्ड बॉयरन की एक और कविता का भावानुवाद और उसके बाद मूल कविता प्रस्तुत कर रहा हूँ। पहले प्रस्तुत है मेरे द्वारा किया गया कविता का भावानुवाद-

फ्लोरेंस और पीसा के बीच मार्ग पर लिखे गए कुछ छंद

अरे,मुझसे किसी ऐसे नाम के बारे में बात न करो,जो किसी कहानी में महान हो;
हमारी जवानी के दिन ही हमारे गौरव के दिन हैं;
मिर्टल और इवी, जब वे बाइस वर्ष की कमसिन उम्र के हों,
तभी वे पूर्ण ख्याति के पात्र हैं, जितनी भी हो सके।

मालाएं और मुकुट तब क्या शोभा देगें, जब माथा पूरा सलवटों से घिर जाए?
यह तो ऐसा ही हुआ जैसे मुर्दा पुष्प पर मई माह में ओस छिड़क दी हो:
तब ऐसे मुख से दूर, जो बुढ़ापे से पीला पड़ गया हो!
मुझे क्या परवाह मात्र उन पुष्पहारों की जो यश देंगे?

अरी ओ प्रसिद्धि, अगर कभी मुझे तुम्हारी प्रशंसाओं से ही खुशी मिलेगी,
तो यह तुम्हारे प्रशंसा से भरे वाक्यांशों के कारण नहीं होगी,
अपितु यह अपनी प्रिये की आंखों में दिखने वाली चमक के कारण होगी,
जो यह बताती हैं कि मैं उसके प्रेम के लिए अपात्र नहीं हूँ।

वहीं मुख्य रूप से मैंने तुम्हे खोजा, वहीं मैंने तुम्हे पाया;
उसकी दृष्टि की ही वे सर्वश्रेष्ठ किरणें हैं, जो मुझे चारों ओर से घेरती हैं;
जब उन आंखों में विशेष चमक आती है, वही मेरी कहानी का सर्वश्रेष्ठ हिस्सा होता है,
तब मैं जान जाता हूँ कि यह मेरे लिए गौरव का क्षण है।

और अब मूल अंग्रेजी कविता-

Stanzas Written On The Road Between Florence And Pisa

Oh, talk not to me of a name great in story;
The days of our youth are the days of our glory;
And the myrtle and ivy of sweet two-and-twenty
Are worth all your laurels, though ever so plenty.

What are garlands and crowns to the brow that is wrinkled?
‘Tis but as a dead flower with May-dew besprinkled:
Then away with all such from the head that is hoary!
What care I for the wreaths that can only give glory?

O Fame!—if I e’er took delight in thy praises,
‘Twas less for the sake of thy high-sounding phrases,
Than to see the bright eyes of the dear one discover
She thought that I was not unworthy to love her.

There chiefly I sought thee, there only I found thee;
Her glance was the best of the rays that surround thee;
When it sparkled o’er aught that was bright in my story,
I knew it was love, and I felt it was glory.

                                           - Lord Byron

नमस्कार।
************

Categories
Uncategorized

126. कहती टूटी दीवट, सुन री उखड़ी देहरी!

आज फिर से प्रस्तुत है एक पुरानी ब्लॉग पोस्ट-

आज एक खबर कहीं पढ़ी कि उत्तराखंड के किसी गांव में केवल बूढ़े लोग रह गए हैं, विशेष रूप से महिलाएं, जवान लोग रोज़गार के लिए शहरों को पलायन कर गए हैं।

वैसे यह खबर नहीं, प्रक्रिया है, जो न जाने कब से चल रही है, गांव से शहरों की ओर तथा नगरों, महानगरों से विदेशों की तरफ! जहाँ गांव में बूढ़े लोग हैं, लेकिन जैसा भी हो, उनका समाज है वहाँ पर, शहरों में बहुत से बूढ़े लोग फ्लैट्स में अकेले पड़े हैं, जिनका कोई सामाजिक ताना-बाना भी नहीं है, ऐसे में कृत्रिम ताना-बाना भी बनाया जाता है, जैसे ‘ओल्ड एज होम’, लॉफिंग क्लब आदि, ये जहाँ काम दें, अच्छा ही है। वरना बहुत सी बार कोई मर जाता है, तब पता चलता कि वह अकेला रह रहा था।

मेरे एक वरिष्ठ मित्र थे- श्री शर्मा जी, जिन्होंने ग्रामीण परिवेश पर कुछ बहुत सुंदर गीत लिखे हैं। उनकी दो पंक्तियां याद आ रही हैं-

ना वे रथवान रहे, ना वे बूढ़े प्रहरी,
कहती टूटी दीवट, सुन री उखड़ी देहरी।

मैंने भी बहुत पहले, निर्जन होते जा रहे गांवों को लेकर एक कविता लिखी थी-

गांव के घर से

बेखौफ चले आइए
यहाँ अभी भी कुछ लोग हैं।

घर की दीवारों पर जो स्वास्तिक चिह्न बने हैं,
इन्हीं पर कई बार टूटी हैं चूड़ियां,
टकराए हैं माथे।
कभी यह एक जीवंत गांव था,
लेकिन आज, हर जीवित गंध- एक स्मारक है,
जमीन का हर टुकड़ा, लोगों की गर्दन पर गंडासा है।

धुएं का आकाश रचती चिमनियां, और यंत्र संगीत,
न जाने कहाँ उड़ा ले गया- उन गंध पूरित लोगों को।
एक, शहर में- सही गलत का वकील है,
पड़ौस को उससे बड़ी उम्मीदें हैं।
(श्रीकृष्ण शर्मा)

वीरान होते गांवों को लेकर अपनी यह पुरानी कविता मुझे याद आई, कहीं लिखकर नहीं रखी है और यहाँ प्रस्तुत करते समय, कहीं-कहीं से रिपेयर करनी पड़ी।

आखिर में पंकज उदास का गाया एक गीत याद आ रहा है, कमाई के लिए घर से दूर, विदेशों में अकेले रहने वालों को लेकर यह बहुत सुंदर गीत है, इसकी कुछ पंक्तियां ही यहाँ शेयर करूंगा-

चिट्ठी आई है, आई है चिट्ठी आई है।
बहुत दिनों के बाद, हम बे-वतनों को याद,
वतन की मिट्टी आई है।

वैसे तो इस गीत का हर शब्द मार्मिक है, मैं केवल अंतिम छंद यहाँ दे रहा हूँ-

पहले जब तू ख़त लिखता था, कागज़ में चेहरा दिखता था,
बंद हुआ ये मेल भी अब तो, खत्म हुआ ये खेल भी अब तो,
डोली में जब बैठी बहना, रस्ता देख रहे थे नैना,
मैं तो बाप हूँ मेरा क्या है, तेरी मां का हाल बुरा है,
तेरी बीवी करती है सेवा, सूरत से लगती है बेवा,
तूने पैसा बहुत कमाया, इस पैसे ने देश छुड़ाया,
पंछी पिंजरा तोड़ के आजा, देश पराया छोड़ के आजा,
आजा उमर बहुत है छोटी, अपने घर में भी है रोटी।
चिट्ठी आई है, आई है चिट्ठी आई है।

ये गीत उन लोगों के लिए विशेष रूप से महत्वपूर्ण है, जो जैसे-तैसे काम-धंधे के लिए चले तो जाते हैं, लेकिन जब चाहें तब घर मिलने के लिए नहीं आ सकते।

अब इसके बाद क्या कहूं!

नमस्कार।
————–