Categories
Uncategorized

चाँद से गिर के मर गया है वो!

आज गुलज़ार साहब की एक नज़्म शेयर कर रहा हूँ, जो उनके संकलन यार जुलाहे से ली गई है| गुलज़ार शायरी, रंगमंच और फिल्मों की दुनिया का जाना-माना नाम है| वे विशेष रूप से शायरी में एक्सपेरीमेंट के लिए जाने जाते हैं|

यह नज़्म भी कुछ अलग तरह की है| गुलज़ार साहब के संकलन ‘यार जुलाहे’ से लीजिए प्रस्तुत है ये नज़्म-

 

वो जो शायर था चुप सा रहता था
बहकी-बहकी सी बातें करता था,
आँखें कानों पे रख के सुनता था
गूंगी ख़ामोशियों की आवाज़ें|
जमा करता था चाँद के साए,
गीली-गीली सी नूर की बूंदें
ओक़ में भर के खड़खड़ाता था|
रूखे-रूखे से रात के पत्ते
वक़्त के इस घनेरे जंगल में,
कच्चे-पक्के से लम्हे चुनता था|
हाँ वही वो अजीब सा शायर
रात को उठ के कोहनियों के बल
चाँद की ठोडी चूमा करता था|
चाँद से गिर के मर गया है वो,
लोग कहते हैं ख़ुदकुशी की है|

 

आज के लिए इतना ही,
नमस्कार|

******

Leave a Reply