Categories
Uncategorized

वह अट्टहासों का धनी, अब मुस्कुराता तक नहीं!

आज मैं एक बार फिर से अपने प्रिय कवियों में से एक रहे, स्वर्गीय किशन सरोज जी का एक गीत प्रस्तुत कर रहा हूँ, ये बात मुझे बार-बार बतानी अच्छी लगती है कि मैंने कई बार उनको अपने आयोजनों में बुलाया था और वे बड़े आत्मीय भाव से गले मिलते थे| एक बात और बता दूँ, मैं अपने एक निकट संबंधी की मृत्यु का समाचार पाकर वहाँ जा रहा था| तभी ट्रेन में यात्रा करते समय मुझे किशन जी की मृत्यु का समाचार ज्ञात हुआ, कुमार विश्वास जी के द्वारा लिखा गया पोस्ट पढ़कर| यह पढ़कर मेरी स्थिति ऐसी हो गई कि मुझे लगा कि अगर मैं यहाँ ट्रेन में ही रोने लगा तो लोग क्या कहेंगे|

 

खैर आप किशन सरोज जी का, गीत कवि की व्यथा से जुड़ा यह भावुक सा गीत पढ़िए-

 

इस गीत कवि को क्या हुआ,
अब गुनगुनाता तक नहीं|

 

इसने रचे जो गीत जग ने
पत्रिकाओं में पढ़े,
मुखरित हुए तो भजन जैसे
अनगिनत होंठों चढ़े|

 

होंठों चढ़े, वे मन बिंधे,
अब गीत गाता तक नहीं|

 

अनुराग, राग विराग
सौ सौ व्यंग-शर इसने सहे,
जब जब हुए गीले नयन
तब तब लगाये कहकहे|

 

वह अट्टहासों का धनी
अब मुस्कुराता तक नहीं|

 

मेलों तमाशों में लिये
इसको फिरी आवारगी,
कुछ ढूँढती सी दॄष्टि में
हर शाम मधुशाला जगी|

 

अब भीड़ दिखती है जिधर,
उस ओर जाता तक नहीं|

 

आज के लिए इतना ही|
नमस्कार|

******

Leave a Reply