Categories
Uncategorized

फिर सुशांत की बात!

आज एक बार फिर से सुशांत सिंह राजपूत के बारे में बात करने का मन हो रहा है| सुशांत की मौत को दो महीने से ज्यादा समय बीत चुका है और समय बीतने के साथ यह तो स्पष्ट होता जा रहा है कि सुशांत जी ने आत्महत्या तो नहीं ही की है| कौन लोग थे इस हत्या के पीछे, उसके लिए तो सीबीआई इस मामले को देखेगी, क्योंकि मुंबई पुलिस के रुख से ऐसा बिलकुल नहीं लगता कि वे सच्चाई का पता लगाना चाहते हैं| अब ऐसा क्यों है, यह तो सही जांच होने पर ही पता चल पाएगा|


कौन इस घटना के दोषी हैं, इस बारे में तो मेरे पास कहने को कुछ नहीं है, क्योंकि मेरी ऐसी खोजी प्रवृत्ति नहीं है| मैं तो सुशांत सिंह राजपूत के बारे में ही कुछ बात करना चाहता हूँ| मुंबई फिल्म नगरी की दुनिया ही ग्लैमर की दुनिया है| बहुत समय से यहाँ बाहर वालों का प्रवेश काफी कठिन होता गया है| फिर जो लोग प्रवेश कर पाते हैं और हीरो बनने जैसी स्थिति में भी पहुँच पाते हैं, उनको यहाँ पहले से जमे हुए लोगों, उनके शक्तिशाली समूह से बनाकर रखनी पड़ती है, उनकी हाँ में हाँ मिलानी पड़ती है और ऐसा भी कहा जाता है कि वहाँ माफिया की शरण में रहना पड़ता है|


हम, फिल्मी कलाकारों के जीवन काल में उनके ग्लैमर, उनकी सफल भूमिकाओं और वे अपने साक्षात्कारों आदि में जो कुछ अपने बारे में बताते हैं, वही जानते हैं| सुशांत सिंह राजपूत की दुर्भाग्यपूर्ण मृत्यु के बाद उनके बारे में अनेक बातें मालूम हुईं, जो उनकी फिल्मी भूमिकाओं से अलग हैं|


यह तो हम जानते हैं कि फिल्मी दुनिया में लोग पढ़ाई में कमाल करने वाले बहुत कम होते हैं| किसी जमाने में बलराज साहनी जैसे कुछ पढे-लिखे लोग थे| आज के समय में जो कुछ पढे-लिखे लोग फिल्मों में रहे हैं उनमें सुशांत सिंह राजपूत एक हैं, इतना ही नहीं वे टॉपर भी रहे, उन्होंने एक विशेष दूरबीन भी ली हुई थी, जिससे वे नक्षत्रों को देखते थे| बाकायदा योजना बनाकर वे निरंतर आगे बढ़ रहे थे| वे बहुत उदार और आस्थावान भी थे, बहुत से लोगों की उन्होंने ऐसी मदद की जिसकी कल्पना भी नहीं की जा सकती| उनकी लिव-इन पार्टनर ने भी उनका भरपूर फायदा उठाया और उनके पैसे से बनी कंपनी में अपने परिवार को सारे अधिकार सौंप दिए और उनके खर्च पर पर दुनिया घूम ली|


ऐसी अनेक बातें सुशांत जी की मृत्यु के बाद पता चल रही हैं कि वे कितने उदार, खुशदिल और आस्थावान मनुष्य थे| यह सब जानने के बाद हर किसी की यह और भी इच्छा है कि इस मामले के दोषियों को कड़ी सज़ा दी जाए और यदि वहाँ कोई दुष्ट माफिया काम कर रहा है, जो प्रतिभाशाली लोगों के विरुद्ध काम करता है तो उसको जड़ से उखाड़ फेंका जाए|


आज एक बार फिर उस प्रतिभाशाली कलाकार और एक उम्दा इंसान का आदरपूर्वक स्मरण करने का मन हो रहा है, काश ऐसी प्रतिभा के अंत के पीछे जो लोग हैं उन्हें ऐसा दंड मिले कि वे फिर से किसी प्रतिभा का गला नहीं घोट पाएँ|


आज के लिए इतना ही,
नमस्कार|

*********

4 replies on “फिर सुशांत की बात!”

I feel sad every time I see any video about this investigation. It should be solved. He was such a bright guy. The truth should be investigated.
I just think how his family must be suffering this loss? They have right to know the truth.
It is really sad and disheartening the way all this has been handled.

Leave a Reply