Categories
Uncategorized

धूप-भरे सूने दालान!

एक सुरीले गीतकार और भारतीय काव्य मंचों की शान श्री सोम ठाकुर जी का एक प्यारा सा गीत आज शेयर कर रहा हूँ| गीत का सौंदर्य और अभिव्यक्ति की दिव्यता स्वयं ही पाठक/श्रोता को सम्मोहित कर लेती है|


लीजिए प्रस्तुत है प्रतीक्षा का यह प्यारा सा गीत–


खिड़की पर आंख लगी,
देहरी पर कान।

धूप-भरे सूने दालान,
हल्दी के रूप भरे सूने दालान।


परदों के साथ-साथ उड़ता है-
चिड़ियों का खण्डित-सा छाया क्रम
झरे हुए पत्तों की खड़-खड़ में
उगता है कोई मनचाहा भ्रम
मंदिर के कलशों पर-
ठहर गई सूरज की कांपती थकान
धूप-भरे सूने दालान।


रोशनी चढ़ी सीढ़ी-सीढ़ी
डूबा मन
जीने के
मोड़ों को
घेरता अकेलापन|

ओ मेरे नंदन!
आंगन तक बढ़ आया
एक बियाबान।
धूप भरे सूने दालान।


आज के लिए इतना ही,
नमस्कार|

*********

4 replies on “धूप-भरे सूने दालान!”

Leave a Reply