Categories
Memoirs Poetry

अभिनंदन के शाल-दुशाले!

स्वर्गीय भाई किशन सरोज जी का स्मरण करते हुए और उनके एक गीत का सहारा लेते हुए कुछ बातें कहना चाहूँगा| यह गीत मैंने पहले भी एक से अधिक बार शेयर किया है, आज इसका सहारा लेकर कुछ बातें कहने का मन है|

किशन जी से कवि सम्मेलनों के सिलसिले में कुछ बार भेंट हुई और उस सहृदय इंसान को थोड़ा बहुत निकट से जानने का अवसर मिला| वैसे मैं आयोजनों के सिलसिले में जिन कवियों से मिला, केवल आयोजक के रूप में मिला’ कवि के रूप में नहीं|

हां तो आज जिस गीत के बहाने मैं बात करना चाहूंगा उसका मुखड़ा इस प्रकार है-

नागफनी आंचल में बांध सको तब आना,
धागों बिंधे गुलाब हमारे पास नहीं|


कवि सम्मेलन के मंच पर कविगण, इस उम्मीद के साथ आते हैं कि सामने बैठे श्रोताओं के मन में स्थान बना सकें और प्रशंसा प्राप्त कर लें| लेकिन मैंने मंचों पर अक्सर देखा है कि किशन जी, सोम ठाकुर आदि को श्रोतागण शांत रहकर सुन लें, यही बड़ी बात है| जो लोग ‘वाह’ करते हैं, विशाल भीड़ में उनकी नगण्य संख्या के कारण वह इतनी धीमी होती है कि मंच तक नहीं पहुँचती|

चलिए इस गीत का पहला अंतरा प्रस्तुत कर रहा हूँ-

हम तो ठहरे निपट अभागे
आधे सोये, आधे जागे,
थोड़े सुख के लिये उम्र भर
गाते फिरे भीड़ के आगे,
कहाँ-कहाँ हम कितनी बार हुए अपमानित,
इसका सही हिसाब, हमारे पास नहीं।


मैं यह भी बताना चाहूँगा कि सोम ठाकुर जी और किशन सरोज जी में एक दूसरे के प्रति बहुत गहरा सम्मान का भाव रहा है| मुझे याद है एक बार सोम जी कवि सम्मेलन का संचालन कर रहे थे और उन्होंने किशन सरोज जी को एक गीत के लिए आमंत्रित किया- ‘वो देखो कुहरे में चंदन वन डूब गया’, यह गीत श्रोता समुदाय सामान्यतः पचा नहीं पाता, लेकिन इससे पहले सोम जी ने जो भूमिका बांधी, और अंत में कहा इसको आप एक डाक्यूमेंट्री की तरह महसूस कीजिए, और इसके बाद श्रोताओं ने उस गीत का भरपूर आनंद लिया|

वास्तव में कवि, विशेष रूप से भावुकता से भरे गीतकार, इतने संवेदनशील होते हैं कि उनको उपेक्षित होने पर बहुत चोट लगती है| लोगों के दिल तक पहुँचने के लिए वे क्या-क्या प्रयास नहीं करते, परंतु अक्सर सही वातावरण नहीं मिलता| आज के गीत का दूसरा छंद प्रस्तुत है-

हमने व्यथा अनमनी बेची,
तन की ज्योति कंचनी बेची,
कुछ न मिला तो अंधियारों को,
मिट्टी मोल चांदनी बेची।
गीत रचे जो हमने उन्हें याद रखना तुम
रत्नों मढ़ी किताब, हमारे पास नहीं।


कवि के पास इसके अलावा और क्या है, सब कुछ वह अपने पाठक / श्रोता के लिए समर्पित कर देता है, लेकिन उसके बाद भी जब अपमान और उपेक्षा मिलती है, तब उसका दिल टूट जाता है| रमानाथ अवस्थी जी अक्सर कहते थे कि मैं तो यही चाहूँगा कि मैं आपके पास न आऊँ, मेरे गीत ही आपके पास आएं|

मैं भी अक्सर ब्लॉगिंग के माध्यम से प्रयास करता हूँ, कि श्रेष्ठ रचनाएं आपके पास पहुँचें |
एक बात और बहुत से अन्य कवियों की तरह किशन सरोज जी भी पीते काफी थे, बहुत संवेदनशील और नाजुक हृदय वाले व्यक्ति थे, जिनको श्रोताओं की प्रतिक्रिया से बहुत फर्क पड़ता था| वो बोलते थे कि पीने के बाद श्रोताओं को ‘फेस’ करने की हिम्मत आ जाती है| लेकिन कविता में बेइमानी उन्हें बिल्कुल पसंद नहीं थी| लीजिए यह छंद प्रस्तुत है-

झिलमिल करतीं मधुशालाएँ,
दिन ढलते ही हमें रिझाएँ,
घड़ी-घड़ी हर घूँट-घूँट हम,
जी-जी जाएँ, मर-मर जाएँ,
पीकर जिसको चित्र तुम्हारा धुंधला जाए,
इतनी कड़ी शराब, हमारे पास नहीं।


और अंत में यही कि ईमानदार कवि अपनी रचना में अपना सब कुछ समर्पित कर देता है और यह अपेक्षा करता है कि श्रोता / पाठक दिल से उसकी रचनाओं के साथ हों| इसकी उम्मीद सामान्य श्रोताओं/पाठकों से ज्यादा होती है, क्योंकि कविगण तो अक्सर इतने आत्म-मुग्ध होते हैं, कि वे दूसरों को आशीर्वाद ही देने की मुद्रा में रहते हैं, प्रशंसा नहीं| ऐसा कवि सम्मेलन में उनके नेपथ्य संवाद से भी समझा जा सकता है|

आखर-आखर दीपक बाले,
खोले हमने मन के ताले,
तुम बिन हमें न भाए पल भर,
अभिनन्दन के शाल-दुशाले,
अबके बिछुड़े कहाँ मिलेंगे, ये मत पूछो,
कोई अभी जवाब, हमारे पास नहीं।


इस बहाने मैंने आज एक बार फिर स्वर्गीय किशन सरोज जी का यह लाजवाब गीत शेयर कर लिया आशा है यह सामान्य पाठकों को तो पसंद आएगा|

आज के लिए इतना ही,
नमस्कार।

********

Leave a Reply