Categories
Film Song

वक़्त करता जो वफ़ा!

आज फिर से मैं हम सबके प्यारे मुकेश जी का गाया एक नायाब गीत शेयर कर रहा हूँ| यह गीत मुकेश जी ने फिल्म- ‘दिल ने पुकारा’ के लिए गाया था, इसे लिखा था इंदीवर जी ने और इसका संगीत तैयार किया था कल्याणजी – आनंदजी की संगीतमय जोड़ी ने|
वक़्त के कारनामे बहुत से होते हैं, जिनमें से एक चाहने वालों का बिछड़ जाना भी है| लीजिए प्रस्तुत है यह गीत जिसे मुकेश जी ने अपना स्वर देकर अमर बना दिया है-

वक़्त करता जो वफ़ा, आप हमारे होते,
हम भी औरों की तरह आपको प्यारे होते|
वक़्त करता जो वफ़ा …


अपनी तक़दीर में पहले से ही कुछ तो ग़म हैं
और कुछ आपकी फ़ितरत में वफ़ा भी कम है,
वरना जीती हुई बाज़ी तो न हारे होते|
वक़्त करता जो वफ़ा…


हम भी प्यासे हैं ये साक़ी को बताया भी न सके,
सामने जाम था और जाम उठा भी न सके,
काश हम ग़ैरत-ए-महफ़िल के न मारे होते|
वक़्त करता जो वफ़ा…


दम घुटा जाता है सीने में फिर भी ज़िंदा हैं,
तुमसे क्या हम तो ज़िंदगी से भी शर्मिंदा हैं,
मर ही जाते न जो यादों के सहारे होते|


वक़्त करता जो वफ़ा, आप हमारे होते,
हम भी औरों की तरह आपको प्यारे होते|


आज के लिए इतना ही,
नमस्कार
******

2 replies on “वक़्त करता जो वफ़ा!”

Leave a Reply