महबूब मेरे महबूब मेरे!

आज फिर से मैं हम सबके प्यारे मुकेश जी का गाया एक बहुत सुंदर गीत शेयर कर रहा हूँ| मजरूह सुल्तानपुरी साहब का लिखा यह गीत मुकेश जी और लता जी ने फिल्म- ‘फिल्म पत्थर के सनम’ के लिए गाया था, इसका संगीत तैयार किया था लक्ष्मीकांत प्यारेलाल की सुरीली जोड़ी ने|

लीजिए प्रस्तुत है मनोज कुमार जी और वहीदा जी पर फिल्माया गया यह गीत जो इतने समय बाद आज भी बड़े चाव से सुना जाता है –


महबूब मेरे महबूब मेरे
तू है तो दुनिया कितनी हसीं है
जो तू नहीं तो कुछ भी नहीं हैं
महबूब मेरे महबूब मेरे
तू है तो दुनिया कितनी हसीं है|

तू हो तो बढ़ जाती है कीमत मौसम की
ये जो तेरी आंखें हैं शोला शबनम की
यहीं मरना भी है मुझको
मुझे जीना भी यहीं है|
महबूब मेरे महबूब मेरे|

अरमां जिसको जन्नत की रंगीं गलियों का
उसको तेरा दामन है बिस्तर कलियों का
जहां पर हैं तेरी बाहें
मेरी जन्नत भी वही है
महबूब मेरे महबूब मेरे|


रख दे मुझको तू अपना दीवाना करके
नज़दीक आ जा फिर देखूं तुझको जी भर के
मेरे जैसे होंगे लाखों, कोई भी तुझसा नहीं हैं
महबूब मेरे महबूब मेरे|


आज के लिए इतना ही,

नमस्कार
******


2 thoughts on “महबूब मेरे महबूब मेरे!”

Leave a Reply

%d bloggers like this: