नादानी दे मौला!

दो और दो का जोड़ हमेशा चार कहाँ होता है,
सोच समझ वालों को थोड़ी नादानी दे मौला|
निदा फाज़ली

2 thoughts on “नादानी दे मौला!”

Leave a Reply

%d bloggers like this: