हम जैसे हो जाएंगे!

बच्चों के छोटे हाथों को, चांद सितारे छूने दो,
चार किताबें पढ़कर ये भी हम जैसे हो जाएंगे |
निदा फाज़ली

3 Comments

Leave a Reply