दुनिया, जादू का खिलौना!

बरसात का बादल तो, दीवाना है क्या जाने,
किस राह से बचना है, किस छत को भिगोना है|

निदा फाज़ली

Leave a Reply