ख़ामोशी पहचाने कौन 1

मुँह की बात सुने हर कोई
दिल के दर्द को जाने कौन
आवाज़ों के बाज़ारों में
ख़ामोशी पहचाने कौन ।

निदा फाज़ली

2 thoughts on “ख़ामोशी पहचाने कौन 1”

Leave a Reply

%d bloggers like this: