खामोशी पहचाने कौन 3

जाने क्या-क्या बोल रहा था
सरहद, प्यार, किताबें, ख़ून
कल मेरी नींदों में छुपकर
जाग रहा था जाने कौन ।

निदा फाज़ली

Leave a Reply