खामोशी पहचाने कौन 5

किरन-किरन अलसाता सूरज
पलक-पलक खुलती नींदें
धीमे-धीमे बिखर रहा है
ज़र्रा-ज़र्रा जाने कौन ।

निदा फाज़ली

Leave a Reply