दर्द पुराने निकले 2

फ़स्ल-ए-गुल आई फ़िर एक बार असीनाने-वफ़ा,
अपने ही खून के दरिया में नहाने निकले|

अमजद इस्लाम अमजद

Leave a Reply