दर्द पुराने निकले 4

दश्त-ए-तन्हाई ए हिजरा में खड़ा सोचता हूं,
हाय क्या लोग मेरा साथ निभाने निकले|

अमजद इस्लाम अमजद

Leave a Reply