दर्द पुराने निकले 5

कू -ए- क़ातिल में चले जैसे शहीदों का जुलूस,
ख़्वाब यूं भीगती आँखों को सजाने निकले|

अमजद इस्लाम अमजद

2 Comments

Leave a Reply