दर्द पुराने निकले!

चांद के साथ कई दर्द पुराने निकले,
कितने गम थे जो तेरे गम के बहाने निकले|

अमजद इस्लाम अमजद

Leave a Reply