मगर पराया है 3

महक रही है ज़मीं चाँदनी के फूलों से,
ख़ुदा किसी की मोहब्बत पे मुस्कुराया है|

बशीर बद्र

Leave a Reply