मगर पराया है 4

उसे किसी की मोहब्बत का ऐतबार नहीं,
उसे ज़माने ने शायद बहुत सताया है|

बशीर बद्र

4 Comments

Leave a Reply