मगर पराया है 5

तमाम उम्र मेरा दिल उसी धुएँ में घुटा,
वो इक चराग़ था मैं ने उसे बुझाया है|

बशीर बद्र

2 Comments

Leave a Reply