मगर पराया है!

वो चांदनी का बदन ख़ुशबुओं का साया है,
बहुत अज़ीज़ हमें है मगर पराया है|

बशीर बद्र

2 Comments

Leave a Reply