कच्ची दीवार हूँ!

कच्ची दीवार हूँ ठोकर न लगाना मुझको,
अपनी नज़रों में बसाकर न गिराना मुझको।

असरार अंसारी

Leave a Reply