आवारगी 4

इक अजनबी झोंके ने जब पूछा मेरे ग़म का सबब
सहरा की भीगी रेत पर मैंने लिखा आवारगी।

मोहसिन नक़वी

Leave a Reply