आवारगी 5

ये दर्द की तनहाइयाँ, ये दश्त का वीराँ सफ़र
हम लोग तो उकता गये अपनी सुना, आवारगी।

मोहसिन नक़वी

Leave a Reply