अशआ’र


अशआ’र मेरे यूँ तो ज़माने के लिए हैं
कुछ शेर फ़क़त तुमको सुनाने के लिए हैं|

जां निसार अख़्तर


Leave a Reply