ख़्वाब!

आँखों में जो भर लोगे तो काँटों से चुभेंगे
ये ख़्वाब तो पलकों पे सजाने के लिए हैं|

जां निसार अख़्तर

Leave a Reply

%d bloggers like this: