ये इल्म का सौदा!

ये इल्म का सौदा ये रिसाले ये किताबें
इक शख़्स की यादों को भुलाने के लिए हैं|

जां निसार अख़्तर

Leave a Reply