माँ का प्यार !

मैं रोया परदेस में भीगा माँ का प्यार,
दुख ने दुख से बात की बिन चिट्ठी बिन तार|

निदा फाज़ली

2 Comments

Leave a Reply