संगी बदले रूप!

अच्छी संगत बैठकर, संगी बदले रूप,
जैसे मिलकर आम से, मीठी हो गई धूप|

निदा फाज़ली

Leave a Reply