प्यास !

बढ़ा के प्यास मेरी, उसने हाथ छोड़ दिया,
वो कर रहा था मुरव्वत भी दिल्लगी की तरह।

क़तील शिफाई

Leave a Reply