वो भी न बन सका अपना!

सितम तो ये है कि वो भी न बन सका अपना,
क़ुबूल हमने किया जिसका गम खुशी की तरह।

क़तील शिफाई

2 Comments

Leave a Reply