उम्र नशे में निकल न जाए कहीं!

तमाम रात तेरे मैकदे में मय पी है
तमाम उम्र नशे में निकल न जाए कहीं|

दुष्यंत कुमार

Leave a Reply

%d bloggers like this: