नज़ारा बदल न जाए कहीं!

नजर-नवाज़ नजारा बदल न जाए कहीं
जरा-सी बात है मुँह से निकल न जाए कहीं|

दुषयांत कुमार

1 Comment

Leave a Reply