बंदिश निगल न जाए कहीं!

वो देखते है तो लगता है नींव हिलती है
मेरे बयान को बंदिश निगल न जाए कहीं|

दुष्यंत कुमार

2 thoughts on “बंदिश निगल न जाए कहीं!”

Leave a Reply

%d bloggers like this: