ये गर्म राख!

चले हवा तो किवाड़ों को बंद कर लेना
ये गर्म राख़ शरारों में ढल न जाए कहीं|

दुष्यंत कुमार

Leave a Reply

%d bloggers like this: