सीढ़ी फिसल न जाए कहीं!

कभी मचान पे चढ़ने की आरज़ू उभरी
कभी ये डर कि ये सीढ़ी फिसल न जाए कहीं|

दुष्यंत कुमार

Leave a Reply