हाथ जल न जाए कहीं!

ये लोग होमो-हवन में यकीन रखते है
चलो यहां से चलें, हाथ जल न जाए कहीं|

दुष्यंत कुमार

Leave a Reply