सारा जहां हमारा 4

होने को हम कलन्दर, आते हैं बोरी बन्दर
हर एक कुली यहाँ का है राज़दाँ हमारा
चीन-ओ-अरब हमारा …

Leave a Reply

%d bloggers like this: