सारा जहां हमारा 5

तालीम है अधूरी, मिलती नही मजूरी
मालूम क्या किसीको, दर्द-ए-निहाँ हमारा
चीन-ओ-अरब हमारा …

फिर सुबह होगी

Leave a Reply