चाल ऐसी है मदहोश मस्ती भरी!

चाल ऐसी है मदहोश मस्ती भरी
नींद सूरज सितारों को आने लगी
इतने नाज़ुक क़दम चूम पाये अगर
सोते सोते बियाबान गाने लगे
मत महावर रचाओ
मत महावर रचाओ बहुत पाँव में
फर्श का मरमरी दिल बहल जाएगा|

नई उमर की नई फसल

Leave a Reply