दिल का पागलपान!

आँखों को भी ले डूबा ये दिल का पागल-पन,
आते जाते जो मिलता है तुम सा लगता है|

क़ैसर उल जाफ़री

2 Comments

Leave a Reply