प्यास!

कितने दिनों के प्यासे होंगे यारों सोचो तो,
शबनम का क़तरा भी जिन को दरिया लगता है|

क़ैसर उल जाफ़री

2 thoughts on “प्यास!”

Leave a Reply

%d bloggers like this: