शीश-महल में एक एक चेहरा!

किसको पत्थर मारूँ ‘क़ैसर’ कौन पराया है,
शीश-महल में एक एक चेहरा अपना लगता है|

क़ैसर उल जाफ़री

2 Comments

Leave a Reply