कोई फ़ैसला तो सुना दें!

सज़ा दें, सिला दें, बना दें, मिटा दें
मगर वो कोई फ़ैसला तो सुना दें

सुदर्शन फ़ाकिर

2 thoughts on “कोई फ़ैसला तो सुना दें!”

Leave a Reply

%d bloggers like this: