चलो ज़िंदगी को मोहब्बत बना दें!

हर एक मोड़ पर हम ग़मों को सज़ा दें,
चलो ज़िंदगी को मोहब्बत बना दें|

सुदर्शन फ़ाकिर

Leave a Reply