वफ़ाओं के हम, वो नशेमन बना दें!

कभी ग़म की आँधी, जिन्हें छू न पाए,
वफ़ाओं के हम, वो नशेमन बना दें|

सुदर्शन फ़ाकिर

Leave a Reply