दूज का चांद

मेरे छोटे घर कुटीर का दिया,
तुम्हारे मंदिर के विस्तृत आँगन में,
सहमा सा रख दिया|

अज्ञेय

Leave a Reply