तेरा पैमां जाना!

अब के तज्दीद-ए-वफ़ा का नहीं इम्काँ जाना,
याद क्या तुझ को दिलाएँ तेरा पैमां जाना|

अहमद फ़राज़

Leave a Reply